Short & Long Essays on Dussehra |10 lines on Dussehra in English & Hindi | Paragraph on Durga Puja for Students & Teachers

Essay, Paragraph, Articles, and 10 lines on Dussehra 2020: Dussehra or Dasara or Vijayadashami or Durga Navratri Festival is one of the most important festivals in India celebrated by Hindhu people. On the day of Dussehra, people remember the victory of good over evil. This year, Durga Puja started on 16th October 2020 and ends on 25th October 2020. People and kids worship Goddess Durga Mata and decorate the Durga Devi idol in nine avatars.

Get complete information about Vijayadashami and Dussehra festival 2020 by referring to the Long and Short Essay on Dussehra in English & Hindi, Paragraph on Durga Puja for children, Dussehra 100 word to 600-word Articles, and ten lines on Dussehra in Hindi and 10 Lines on Dussehra Festival in English for kids presented on this page.

Get 10 Lines on Dussehra | Paragraph on Vijayadashami | Dussehra Essay for Students or Parents or Political Leaders in English & Hindi

The festival celebrates in the triumph of Lord Rama’s over Ravana and signifies the victory of good over evil. The day was celebrated with great joy and energy by people of the Hindu religion. By using the written lines on Dussehra, students can easily understand the story behind the Celebration of Navratri and know the Importance of the Dussehra Festival. 

Also, these short and long essays on Dussehra 2020 in English and Hindi help to win the essay competitions and stage speeches. However, the provided 10 lines on Dussehra, Paragraph on Durga Puja & Dussehra, Essay on Dussehra in Hindi for Class 7, 6, 5, 4 aid to answer all question in exams and quiz competitions.

5 lines on Dussehra in Hindi for students

Short Essay on Dussehra in Hindi Language & English

300 Words Hindi Nibandh on Dasara Festival

प्रस्तावना

दशहरा हिन्दुओं का बहुत महत्वपूर्ण और मायने रखने वाला त्यौहार है। इस पर्व का महत्व पारंपरिक और धार्मिक रुप से बहुत ज्यादा है। भारतीय लोग इसे बहुत उत्साह और भरोसे से मनाते है।

ये पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत को भी प्रदर्शित करता है अर्थात् पाप पर पुण्य की जीत। लोग इसे कई सारे रीति-रिवाज और पूजा-पाठ के द्वारा मनाते है। धार्मिक लोग और भक्तगढ़ पूरे दिन व्रत रखते है। कुछ लोग इसमें पहले और आखिरी दिन व्रत रखते है तो कुछ देवी दुर्गा का आशीर्वाद और शक्ति पाने के लिये इसमें पूरे नौ दिन तक व्रत रखते है। दसवें दिन लोग असुर राजा रावण पर राम की जीत के उपलक्ष्य में दशहरा मनाते है। दशहरा का पर्व हर साल सितंबर और अक्तूबर के अंत में दीवाली के दो सप्ताह पहले आता है।

रामलीला का आयोजन

देश के कई बरसों में दशहरा को मनाने का रीति-रिवाज और परंपरा अलग-अलग है। कई जगहों पर पूरा दस दिन के लिए मनाया जाता है, मंदिर के पुजारियों द्वारा मंत्र और रामायण की कहानियां भक्तों की बड़ी भीड़ के सामने सुनाई जाती है साथ ही कई जगहों पर रामलीला का आयोजन 7 दिन या मौसम तक किया जाता है। सारे शहर में रामलीला का आयोजन होता है। राम लीला पौराणिक महाकाव्य, रामायण का एक लोकप्रिय अधिनियम है। ऐसा माना जाता है कि महान संत तुलसीदास ने राम, राम की परंपरा शुरू की, जो भगवान राम की कहानी के अधिनियम था। उनके द्वारा लिखी गई रामचरितमानस आज तक रामलीला प्रदर्शन का आधार बनाती हैं। रामनगर राम लीला (वाराणसी में) सबसे पारंपरिक शैली में अधिनियमित किया गया है।

निष्कर्ष

विजयदशमी मनाने के पीछे राम लीला का उत्सव पौराणिक कथाओं को इंगित करता है। ये सीता माता के अपहरण के पूरे इतिहास को बताता है, असुर राजा रावण, उसके पुत्र मेघनाथ और भाई कुम्भकर्ण की हार और अंत तथा राजा राम की जीत को दर्शाता है। वास्तविक लोग राम, लक्ष्मण और सीता तथा हनुमान का किरदार निभाते है वहीं रावण, मेघनाथ और कुम्भकर्ण का पुतला बनाया जाता है। अंत में बुराई पर अच्छाई की जीत को दिखाने के लिये रावण, मेघनाथ और कुम्भकर्ण के पुतले जला दिये जाते है और पटाखों के बीच इस उत्सव को और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

300 Words Essay on Durga Puja 2020 in English

Dussehra is considered as one of the most sacred and significant festivals in the Hindu religion. Celebrated all across the country with various names and ways, it signifies the power of truth over evil. Every year it is celebrated in the month of September or October just twenty days before Diwali. This festival indicated the victory of Lord Rama when he conquered demon Ravana and was successful in releasing goddess Sita from his imprisonment. Goddess Durga and Lord Rama both are worshipped on this auspicious occasion of Dussehra.

Dussehra is a ten days festival where nine days are considered as Navratas that marks the presence of all nine facets of Goddess Durga. On the tenth day of the Navratri festival, Vijayadashami is celebrated that is known as Dussehra. It is also assumed that on the last day of the Navratri festival, Goddess Durga killed demon Mahishasura, therefore, people started worshipping Goddess Durga together with Sri Rama on the day of Dussehra. Hence, it is celebrated with great enthusiasm and joy.

Many fairs and carnivals are organized at different places in the city a few days before the Dussehra festival. Also, Ramleela- a theatre performance based on the life story of Rama is also set up at different temples and grounds for a period of nine days before Dussehra.

People enjoy this festival a lot and especially children as they play games, eat delicious food, take rides in the carnivals organized. On the day of Dussehra, the effigies of Ravana are burnt along with Kumbhkaran and Meghnath. This marks the end of celebrations giving us a message of the victory of truth over evil.

Dussehra is a delightful festival of India celebrated with full enthusiasm, respect, faith, and love. Well, the things we learn from the real-life of God must be implemented in our daily lives and we should know the importance of truth over sin.

Long Essay on Dussehra Festival in English & Hindi | Dussehra Par Nibandh

500 Words Essay on Dussehra/ Dasara in Hindi

भूमिका 

भारत एक धार्मिक परंपरा वाला देश है जहां पर हर रोज़ कोई ना कोई त्यौहार होता है लेकिन सबसे बड़े त्योहारों की बात करें तो उनमें से एक दशहरा भी है जोकि लगातार 10 दिनों तक चलने वाला त्यौहार है।

यह अक्टूबर और नवंबर माह के बीच में दीपावली से करीब 3 सप्ताह पहले आता है। इस दौरान खूब बड़े-बड़े धार्मिक आयोजन किए जाते हैं मिठाइयां बांटी जाती हैं लोग एक दूसरे से गले मिलकर त्यौहार की बधाइयां देते है।

दशहरा त्योहार के आते ही सरकार द्वारा भी इन दिनों स्कूल और सरकारी कार्यालयों की छुट्टियां कर दी जाती हैं जिससे कि सभी लोग इस त्यौहार का पूरी तरह से आनंद उठा सके।

दशहरा का महत्व 

दशहरा एक त्यौहार ही नहीं है इस दिन पूरे परिवार के लोग एक दूसरे से मिलने आते हैं जिससे इस त्यौहार का महत्व और भी बढ़ जाता है।

चूँकि भारत विभिन्न परंपरा वाला देश है इसलिए यहां पर अलग-अलग भाषाएं अलग-अलग परंपराएं हैं जिसके अनुसार इस त्यौहार का लोग अपनी परंपरा के हिसाब से आयोजन करते है। लेकिन सभी परंपराओं में इसका मूल उद्देश्य एक ही होता है।

इस त्यौहार से जन जन में यही संदेश पहुंचाया जाता है कि असत्य पर हमेशा सत्य की ही जीत होती है। बुराई का अंत निश्चित है इसलिए बुरा काम करने से बचें। दशहरा त्यौहार मनाए जाने के पीछे कई पौराणिक कथाएं है जिनमें से एक यह कि भगवान श्री राम के भाई लक्ष्मण ने जब रावण की बहन सूर्पनखा का नाक काट दिया था

तब रावण ने नाराज होकर भगवान श्री राम की पत्नी माता सीता का अपहरण कर लिया। भगवान श्री राम ने वानर सेना, हनुमान जी, लक्ष्मण, सुग्रीव आदि के साथ मिलकर माता सीता को छुड़ाने की योजना बनाई।

इससे पहले उन्होंने मां दुर्गा की पूजा की जिससे उन्होंने यह जान लिया था कि रावण का वध कैसे किया जाए। रावण और भगवान श्री राम के बीच युद्ध करीब 10 दिनों तक चला और दसवें दिन विजयदशमी के दिन भगवान राम ने रावण का वध कर दिया। और माता सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाने में सफल रहे।

चूँकि रावण बहुत ही अहंकारी और अत्याचारी था इसलिए इस दिन बुराई पर अच्छाई की जीत हुई थी इसलिए दशहरा मनाया जाता है और वर्तमान में अभी यह प्रथा कायम रखने के लिए लोगों द्वारा रामलीला का मंचन किया जाता है जिसमें भगवान श्री राम के वनवास जाने से लेकर रावण के वर्क तक का वर्णन किया जाता है और विजय दशमी के दिन रावण का पुतला जलाया जाता है।

भारत के कुछ राज्यों में दशहरा त्योहार को एक अलग ही पौराणिक मान्यता के अनुसार मनाया जाता है जिसमें मां दुर्गा की पूजा की जाती है। इस में प्रतिदिन मां दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है जैसे कि काली, शैलपुत्री, ब्रह्‌मचारिणी ,कुष्मांडा आदि विभिन्न रूप धारण करती हैं और आसुरी शक्तियों का संहार करती हैं।

चूँकि मान्यता है कि मां दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस से करीब 9 दिनों तक युद्ध किया था क्योंकि महिषासुर राक्षस ने पृथ्वी पर तबाही मचा दी थी इसलिए विजयदशमी के दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का त्रिशूल मारकर वध कर दिया था। इसलिए इस दिन बुराई और असुरी ताकतों का अंत हुआ था।

निष्कर्ष 

इस त्यौहार को मनाने का प्रमुख कारण यही है कि पूरे भारत में यह संदेश पहुंचाया जा सके कि हमेशा सत्य की ही जीत होती है चाहे बुराई कितनी भी बड़ी क्यों ना हो।

500+ Words Durga Puja Essay for Kids in English

Dussehra is a festival celebrated in the Hindu religion. It is one of the most important festivals in India. In addition, it is also one of the longest ones. People celebrated Dussehra with great enthusiasm and love, throughout the country. It is time for rejoicing for everyone. The students get ten-day-long holidays from their schools and colleges to thoroughly enjoy this festival. In this Dussehra Essay, we will see how and why people celebrate Dussehra.

Dussehra falls two or three weeks prior to Diwali. Thus, it falls usually around September to October. Everyone waits for this festival eagerly. It brings great reasons to rejoice by all. The ladies prep for their pujas while the men buy crackers and more to celebrate it heartily.

The Victory of Good over Evil

Dussehra is also known as Vijayadashami in some regions of India. If we set aside the regional differences, the main events of this festival have one motto i.e. the victory of good over evil.

In other words, this festival signifies the victory of the power of good over that of the power of evil. If we look at the Hindu mythology, it says that on this day Goddess Durga removed the demon called Mahishasura from the earth. Similarly, other traditions believe that Lord Rama fought and eliminated the Demon King Ravana on this very day.

Thus, we see how both events have the same outcome. The outcome that is of light over dark, truth over lies, and good over evil. Therefore, we see that while people’s beliefs may differ, they celebrate the very same essence throughout the country.

Dussehra Celebrations

People all over India celebrate Dussehra with immense enthusiasm, pomp, and show. The different cultures do not affect the celebrations of the festival. The spirit and zeal remain the same throughout the festival.

Furthermore, Dussehra marks Lord Rama’s victory over Demon Ravana. Thus, people enact the battle that took place between them for ten long days. This dramatic form is called Ram-Leela. People in North India act out the Ram-Leela by wearing masks and through various dance forms.

Subsequently, following the Ramayana, they make giant size paperboard effigies of the three principle demons like Ravana, Meghanada, and Kumbakarna. They are then filled with explosives in order to burn them. A man plays the role of Lord Rama and shoots fiery arrows at the effigies to burn it down. People usually invite a chief guest to act as Lord Rama and burn that effigy down. This event is carried out in an open field with thousands of spectators.

People of all ages enjoy this fair. They witness the fireworks and are left mesmerized by the stunning visuals. Kids wait for the most for this event and insist on their parents to take them to see the firecrackers.

In conclusion, Dussehra carries a lot of importance in the Hindu religion. However, people from all religions witness the marvelous act of burning Ravana. It unites people as the audience is filled with people from all walks of life, and not just the Hindu religion. Most importantly, Dussehra teaches us that good always trumps evil and that light will always conquer darkness.

Paragraph on Durga Puja in English (100 Words) | Article on Dussehra Festival 2020

Durga Puja is a festival celebrated by Hindus in India. It is celebrated with reverence to the Hindu goddess Durga. The festival is especially popular in the states of West Bengal, Bihar, Jharkhand, Madhya Pradesh, and Chhattisgarh. The festival is observed in the Hindu calendar month of Ashwin which corresponds with the Gregorian calendar months of September-October.

Durga Puja is a nine-day festival with each day signifying one form of goddess Durga. Large pandals are erected at public places and idols of Goddess are placed and worshipped. Fares are also held in villages and cities near the pandals (stages).

Paragraph on Dussehra in Hindi (150 Words) | Durga Puja Article in Hindi

दशहरा हिंदुओं के सबसे वांछित त्योहारों में से एक है और पूरे भारत में व्यापक रूप से मनाया जाता है। इस अवसर पर भारत के पूर्वी, मध्य और पश्चिमी भाग में हिंदुओं में उच्च धार्मिक मूल्य हैं। भले ही, देश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग शिष्टाचार में त्योहार मनाया जाता है, लेकिन सभी के लिए भावना समान है।

दशहरा को बुरी ताकतों पर अच्छाई की विजय के लिए मनाया जाता है। रामलीला दशहरा उत्सव की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता है, जहाँ रामायण, और राम और रावण के बीच की पौराणिक कथाएँ आकर्षक नाटकों और स्किट्स के माध्यम से फिर से अभिनय की जाती हैं।

दशहरा मेला (Dussehra Mela):

इस अवसर का एक प्रमुख आकर्षण दशहरा मेला है; विभिन्न स्टॉल और मिनी दुकानें आनंद-सवारी, खरीदारी, खाने और खरीदारी के लिए बनाई गई हैं,। सड़कों पर उन लोगों के साथ हलचल होती है जो विशाल मैदान में न केवल मेले का आनंद लेने के लिए इकट्ठा होते हैं, बल्कि रावण और उसके समकक्षों के पुतलों को भी जलाते हुए देखते हैं।

Ten Lines on Dussehra/ Durga Puja/ Vijayadashami 2020 in English & Hindi languages

In the below two sections, we are prevailing 10 lines on Dussehra festival in English and Hindi for kids. These Few lines on Vijaya Dashami 2020 will give you complete information About Dussehra Festival & helps in speech or essay competition at school events.

10 Lines on Dussehra Festival in English for Kids

  1. The Dussehra is one of the important festivals of Hindus.
  2. It is also known as ‘Vijayadashami’.
  3. On this day Lord Rama killed Ravana.
  4. It is celebrated on the tenth day of the Shukla Paksha of Ashwin month.
  5. The Dussehra is the festival of the victory of good over evil.
  6. Ramlila is organized on this day.
  7. On Dussehra, effigies of Ravana and Kumbhakaran are burnt.
  8. Fairs are organized, the markets are decorated, on this day.
  9. Dussehra is a holiday for schools and government offices.
  10. This festival is celebrated in India as well as other neighbouring countries.

10 Lines on Dussehra in Hindi for Speeches & Essay Competitions

  1. दशहरा एक हिंदू त्यौहार है जो दुष्ट राजा रावण पर भगवान राम की जीत की दर्शाता है।
  2. यह महिषासुर पर देवी दुर्गा की जीत का भी प्रतीक है।
  3. दशहरे के दिन को विजयदशमी के रूप में जाना जाता है।
  4. इस दिन रावण का एक लंबा पुतला बनाया जाता है जो बुराई को दर्शाता है और बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाने के लिए दशहरे पर इसे जलाया जाता है।
  5. दशहरे से पहले भगवान राम के जीवन का चित्रण रामलीला नाटक द्वारा किया जाता है और दशहरे के दिन रावण के वध के साथ इसका समापन होता है।
  6. दशहरे पर रावण के साथ उनके भाइयों मेघनाथ और कुम्भकर्ण के पुतले भी जलाये जाते है।
  7. दशहरे के दिन स्कूलों और सरकारी दफ्तरों में अवकाश रहता है।
  8. भारत में विभिन्न जगह मेलों और प्रदर्शनियों का आयोजन होता है।
  9. दशहरे से नौ दिन पहले नवरात्रा होता है।
  10. दशहरे को बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व माना जाता है।

Final Words

We believe the data shed above regarding the Dussehra Essay, 10 Lines, Paragraph has been helpful to you. Do share the article among your near and dear ones and help them in preparing their speeches and knowing the importance of the festival. We the team of Versionweekly.com wish you a Happy Dussehra in Advance!!

Leave a Comment